Home > Kasganj > स्पर्ष कुष्ठ जागरूकता अभियान की त्रिस्तरीय रणनीति तैयार

स्पर्ष कुष्ठ जागरूकता अभियान की त्रिस्तरीय रणनीति तैयार

30 जनवरी से 13 फरवरी तक चलाया जायेगा अभियान
Veshesh Yadav 
कासगंजः जिलाधिकारी आर0पी0 सिंह ने स्पर्ष कुष्ठ जागरूकता अभियान की बैठक की अध्यक्षता करते हुए बताया कि इस अभियान का मुख्य उददेष्य किसी भी समुदाय में कुष्ठ रोगी को प्रारम्भिक अवस्था में खोजकर उसका समसय एम0डी0टी0 द्वारा पूर्ण उपचार करना है जो कि कुष्ठ रोग के बोझ को कम करने में सहायक सिद्ध होगा। हमारी रणनीति का मूल सिद्धांत है कि इस रणनीति कौषल को बनाए रखना और सभी स्वास्थ्य कर्मियों की संख्या में वृ़िद्ध एवं कुष्ठ रोग से प्रभावित व्यक्तियों की कुष्ठ सेवाओं में भागीदारी लेना जिससे दिखाई देने वाली विकृतियों को कम किया जा सके और इस रोग से जुड़े कंलक को समाप्त करने में सफलता प्राप्त करे एवं कुष्ठ रोग से ग्रसित व्यक्ति समाज की मुख्यधारा से जुड़ सकें।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी रंगजी द्विवेदी ने राष्ट्रीय कुष्ठ उन्मूलन कार्यक्रम की जानकारी देते हुए बताया कि इस कार्यक्रम का आरम्भ 1983 से हुआ था तब से कुष्ठ रोगियो की संख्या में काफी कमी आयी है वर्ष 2005 में भारत में व्यापकता दर 01 रोगी प्रति 10,000 जनसंख्या से कम करने में सफलता प्राप्त हुई है। इसके बावजूद विष्व के 58 प्रतिषत कुष्ठ रोगी अभी भी भारत में हैं। इसके निदान के लिए राष्ट्रीय कुष्ठ उन्मूलन कार्यक्रम चलाया जा रहा है। उन्होने बताया कि कुष्ठ रोग की इपिडिमियोलाॅजी के अनुसार यह आवष्यक है कि हम जल्द नए रोगियों को खोज कर उपचार करें। इसके लिए त्रिस्तरीय नीति अमल में लायी जा रही है प्रथम स्तर पर रोगी की खोज की जायेगी जिससे प्रारम्भिक अवस्था में ही रोगी को एम0डी0टी0 के माध्यम से उपचार किया जा सके। द्वितीय स्तर पर जहाॅ पर एक भी कुष्ठ से विकलांगता से ग्रसित केस मिलता है उस क्षेत्र में उस ग्राम के सभी घरों के सभी सदस्यों का परीक्षण एवं षहरी क्षेत्र में आस-पास के 300 घरों में सभी हाउस होल्ड का परीक्षण किया जायेगा। तृतीय स्तर पर ऐसे क्षेत्र जहाॅ पर पहुॅचा जाना अत्यधिक कठिन है उन स्थानों पर जागरूकता लाने के लिए माइकिंग एंव बुकलेट, हैंडबिल, हैंडआउट, फोल्डर आदि का प्रयोग किया जायेगा।
बैठक में बताया गया कि स्पर्ष कुष्ठ जागरूकता अभियान 2018 का उददेष्य रोग के खिलाफ कलंक और भेदभाव को कम करने और प्रारम्भिक केस रिपोर्टिंग को बढ़ाने के लिए सामुदायिक भागीदारी को बढ़ावा देना है। इसके अंतर्गत 30 जनवरी को जिला मजिस्ट्रेट द्वारा घोषणा पढ़ी जायेगी तथा ग्राम विकास अधिकारी द्वारा भी घोषणा 11 बजे पढ़ी जायेगी। सपना षुभंकर का चयन किया जायेगा स्थानीय स्कूल जाने वाली 14 वर्ष तक की लड़की को उसकी मर्जी से सपना चयनित किया जायेगा जो समुदाय में जागरूकता फैलाने का काम करेगी।
बैठक में सीडीओ श्रीनिवास मिश्र, जिला पंचायत राज अधिकारी विष्वनाथ सिंह, जिला कार्यक्रम अधिकारी, जिला विद्यालय निरीक्षक, जिला बेसिक षिक्षा अधिकारी, जिला पूर्ति अधिकारी, यूनीसेफ के प्रतिनिधि, डब्लूएचओ के प्रतिनिधि सहित सभी प्रभारी चिकित्साधिकारी एवं सीडीपीओ आदि उपस्थित थे।
——

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!