Home > Agra > युद्ध स्मारकों को जातीय चश्में से न देखा जाए – सुशील स्वतंत्र 

युद्ध स्मारकों को जातीय चश्में से न देखा जाए – सुशील स्वतंत्र 

सुशील स्वतंत्र 

नया साल हर तीन सौ पैंसठ दिनों के बाद  जाता है लेकिन 2018 के पहले दिन को हम इस लिहाज से अल कह सकते हैं कि इस दिन ने देश के दो युद्ध स्मारकों को भी जातीय बहस का हिस्सा बना डाला| 200 वर्ष पहले 500 महारों की ब्रिटिश सैन्य टुकड़ी ने हजारों पेशवा सैनिकों को धूल चटाकर मराठा शासन को इस देश से खत्म किया थाउन वीर लड़ाकों की याद में अंग्रेजों ने वैसा ही युद्ध स्मारक भीमा कोरेगांव में ‘जय स्तंभ’ (विक्ट्री पिलरके नाम से बनाया जैसा देश की राजधानी दिल्ली में इंडिया गेट के नाम से बनवाया गया हैयह अंग्रेजों की परम्परा रही हैऐसे विजय के प्रतीक देश के अन्य स्थानों पर आज भी मिल जाएंगेंदिल्ली के नजदीक नॉएडा के गाँव छलेरा में भी ऐसा ही एक युद्ध स्मारक है जिसे स्थानीय लोग ‘विजय गढ़’ कहते हैंयुद्ध में शहीद सैनिकों के गाँव के आसआस ब्रिटिश हुकूमत ऐसे स्मारकों का निर्माण करवा दिया करती थी|

जनवरी 1818 को छोटी सी महार सैन्य टुकड़ी द्वारा अनुशासितप्रशिक्षित और सुसज्जित मानी जाने वाली विशाल पेशवा सेना पर प्राप्त किए गए विजय के भारत के दलि समाज के लिए अनेक मायने हैं| 19वीं सदी के पेशवा राज में दलितों की सामाजिक स्थिति को समझे बिनाकोरेगांव विजय का दलितों के लिए महत्त्व को नहीं समझा जा सकता हैभारतीय इतिहास का यह वही कलंकित दौर था जब जाति विशे के लोगों के गले में हांडी और कमर में झाड़ू बंधा होता थाजब जाति को छिपाना अक्षम्य अपराध की श्रेणी में आता थापेशवा शासकों द्वारा इंसानों के एक समुदाय को अछूत घोषित कर उनपर लम्बे समय से शोषण और भेदभाव किया जा रहा थाभीमा कोरेगांव विजय ने इस देश से पेशवा राज का अंत कर अंग्रेजी हुकूमत को बहाल कियाभारत का दलित समाज आज भी 1 जनवरी को क्रूर पेशवाओं पर प्राप्त विजय के दिन को ‘शौर्य दिवस’ के रूप में मनाता हैयहां यह समझना बहुत जरूरी है कि यह महज जातीय कारणों से नहीं बल्कि विशुद्ध रूप से सामाजिक कारणों की वजह से किया जाता हैअपमान और अमानवीयता के जीवन से मुक्ति पाने के लिए और सम्मान  स्वतंत्रता हासिल करने के लिए दुनिया में अनेक क्रांतियां हुयीं हैं|

भीमा कोरेगांव में निर्मित जय स्तंभ (विक्ट्री पिलरपर हर साल जनवरी को हजारों की संख्या में  सिर्फ दलित बल्कि मराठामुस्लिमप्रगतिशीलबौद्ध और ओबीसी समुदाय के लोग शौर्य दिवस मनाकर 1818 युद्ध के उन महार लड़ाकों को सम्मान देने के लिए एकत्रित होते हैंयह एक सच है कि भीमा कोरेगांव भारत की एक बड़ी आबादी के लिए तीर्थ बन चुका है लेकिन यह भी एक कड़वा सच है कि इस देश की मुख्यधारा की मीडिया इसकी घो अनदेखी करता चला आया हैनववर् की चकाचौंध भरी खबरोंअपराध की घटनाओंछलकते जामों और गैरजरूरी न्यू इयर सेलिब्रेशंस के लिए जितना ‘स्पेस’ भारत की प्रिं और इलेक्ट्रोनिक मीडिया में दिया जाता हैउसके मुकाबले भीमा कोरेगांव की मुक्तिगाथा के लिए स्थान नगण्य रहा है|

इस वर्ष तो मीडिया ने हद्द तब  डाला जब अनेक अखबारों और वेबसाइट पर यह लिख दिया गया कि 1818 में पेशवा सेना के खिलाफ ड़ा गया युद्ध ‘भारत’ के खिलाफ ड़ी गयी लड़ाई थीसबसे पहले मीडिया को यह समझना होगा कि जिस कालखंड में भीमा कोरेगांव की लड़ाई हुयी थी या उस दौर की अन्य लड़ाईयां अंग्रेजों या अन्य आक्रांताओं द्वारा की गयी थींउस समय तक ‘भारत एक राष्ट्र’ जैसी कोई संकल्पना ही नहीं बनी थीइस भौगोलिक भूभाग के अनेक खंड थे जिस पर अलगअलग व्यक्तियों या कहें वंशों का शासन चलता थायुद्ध होते थे और विजेता को राज करने का अधिकार मिल जाता थाघुम्मकड़ और लड़ाकू क़बीलों के दौर से राजघरानों तक जैसे अनेक आक्रमणकारी भारत में आए वैसे ही अंग्रेज भी यहाँ आए। तब तक ‘भारत देश’ जैसी कोई कल्पना नहीं थी| 200 साल राज करने के बाद भी जब अंग्रेज वापस जा रहे थेमतलब ज़ादी  विभाजन से पहले तक यहाँ ब्रिटिश शासित क्षेत्र के अलावा भी छोटेबड़े कुल 565 स्वतन्त्र रियासतें थी| भारत का मौजूदा स्वरूप तो इन सब को एक सूत्र

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!