Home > Aligarh > बुकसेलरों की तानाशाही से अभिभावक परेशान

बुकसेलरों की तानाशाही से अभिभावक परेशान

अभिभावकों ने सीएम व पीएम से की है शिकायत
Rajeev Guatam 
खैर। सर्व शिक्षा अभियान का नारा दे रही प्रदेश की योगी सरकार के आदेशों की बुकसेलर व निजी स्कूल संचालक जमकर धज्जियां उडा रहे है। गरीब अभिभावकों को निजी स्कूल संचालक द्वारा मोटे कमीशन की लगाई कितावों को एक ही दुकान/बुकसेलर से खरीदने को बाध्य होना पड रहा है। कई अभिभावकों ने मुख्यमंत्री व प्रधानमंत्री को शिकायत भेजकर खैर में सरकारी आदेशों की धज्जियां उडाने वाले निजी स्कूल संचालकों व बुकसेलरों के खिलाफ कडी कार्यवाही की मांग की है।
बता दें कि प्रदेश सरकार द्वारा स्कूलों का सत्र एक अपे्रल से शुरू किये जाने के बाद निजी स्कूल संचालकों ने अभिभावकों की जेब कटवाने के लिये बुकसेलरों का चयन कर लिया है। कस्बा तथा देहात के कई विधालय संचालकों ने कस्बा की कुछ दुकानों से किताव बिकवाने के लिये संाठगांठ तक कर ली है। अभिभावक मन न होते हुये भी कुछ चयनित दुकानों से महंगें प्रिंट की कितावें खरीदने को मजबूर है। उल्लेखनीय है कि पिछले सत्र में अभिभावक संघर्ष समिति के सयोंजक विवेक वशिष्ठ ने अभिभावकों के साथ बैठक कर राहत दिलाये जाने हेतु पहल की थी। जिसके सकारात्मक परिणाम सामने आये थे। तत्कालीन एसडीएम ने बुकसेलरों व निजी स्कूल संचालकों पर शिंकजा कस दिया था। जिससे अभिभावकों को राहत महसूस हुई थी। कुछ अभिभावकों ने अग्रंेजी मीडियम स्कूलों में सरकार के आदेशानुसार एनसीईआरटी की कितावें न लगाकर निजी प्रकाशकों की महंगी कितावें लगाने की शिकायत सीएम पोर्टल पर दर्ज कराई है। उक्त मामले में एसडीएम खैर पंकज कुमार ने बताया कि कुछ स्कूल संचालकों व बुकसेलरों की शिकायतें मिल रही है। चुनाव सम्पन्न कराने के बाद इसी मुददे पर फोकस किया जायेगा। किसी भी दशा में अभिभावक के साथ अन्याय नही होने दिया जायेगा। शिक्षा विभाग के अधिकारियों से वार्ता कर सम्बन्धित के खिलाफ बैधानिक कार्यवाही की जायेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!