Home > Hathras > शिव बाबा को दें व्यसनों के जहर का दान

शिव बाबा को दें व्यसनों के जहर का दान

Neeraj Chakrpani 
हाथरस- संसार के कल्याण के लिए विकारों रूपी जहर को पीने वाले शिव को अपने व्यसनों रूपी धीमे जहर को अर्पित करके उनसे ज्ञान रूपी सोम (अमृत) लेने से समाज का कल्याण निहित है। गुटखा, बीड़ी, सिगरेट, शराब कोई बहुत बड़े जहर नहीं हैं। जहर तो काम विकार, क्रोध, लोभ, मोह और अहंकार रूपी विष हैं जिन्होंने संसार को सतयुग से कलियुग में पहुँचा दिया है। उक्त उद्गार प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के अलीगढ़ रोड स्थित आनन्दपुरी कालोनी सेवा केन्द्र द्वारा धातुराकलां में गीता पाठशाला के नये भवन का शुभारम्भ करने के उपरान्त आयोजित कार्यक्रम में बीके शान्ता बहिन ने व्यक्त किये।
इससे पूर्व गीता पाठशाला के नये भवन का शुभारम्भ गाँव प्रधान सोरन सिंह , बी.के. शान्ता बहिन आदि ने रिबिन काटकर तथा नारियल फोड़कर किया।
इस अवसर पर प्रभातफेरी भी निकाली गई जिसमें परमपिता परमात्मा शिव के ज्योर्तिलिंगम स्वरूप तदुपरान्त गीता पाठशाला पर शिवध्वज लहराया गया। विपिन कुमार एवं ओमप्रकाश तौमर ने परमात्मा शिव को साक्षी मानकर अपने व्यसनों का दान भी किया।
कार्यक्रम में बीके उमा, मनोज, गजेन्द्र, सावित्री, अम्बिका, सौदान सिंह, जितेन्द्र सिंह जीतू पहलवान, प्रताप सिंह, भगवान सिंह, भीष्म सिंह, अवनीश तौमर, शरद तौमर, सचिन तौमर, सावित्री देवी, कल्पना, रचना, द्रोपा, ममता, शान्ति, नीरज, सीमा, बीना, विनीता, गुंजन, मंजू, वंदना और यश सहित अनेक ब्रह्माकुमार एवं ब्रह्माकुमारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!