Home > Bulandshahr > आवारा पशुओं ने उजाड़ी सैंकडो बीघा गेहूं की फसल

आवारा पशुओं ने उजाड़ी सैंकडो बीघा गेहूं की फसल

Prasoon Bajpai 
खुर्जा। ग्रामीण क्षेत्र में आवारा पशुओं से परेशान किसानों को रातभर जागकर अपने खेतों को रखाना पड़ रहा है। किसानों की रखवाल के बाद भी आवारा पशुओं ने सैंकड़ों बीघा गेहूं की फसल को उजाड़ कर रख दिया है। प्रदेश सरकार द्वारा गौवंशों की उचित व्यवस्था के लिए प्रशासनिक अधिकारियों को निर्देशित किया गया था। लेकिन प्रशासनिक अधिकारियों के दावे हवा हवाई हो रहे हैं। प्रशासनिक अधिकारियों की लाख कोशिश के बाद भी गौवंशों पर नियंत्रण नहीं पाया जा रहा है। हालांकि शहरी क्षेत्र की जिम्मेदारी पालिका के अधिशासी अधिकारी को सौंपी गई है। ग्रामीण क्षेत्र की जिम्मेदारी विकास खंड के अधिकारियों को सौंपी गई है। इसके बावजूद भी गौवंशों की संख्या न तो शहरी क्षेत्र से कम हो रही है और न ही ग्रामीण क्षेत्र से। जंक्शन चैकी क्षेत्र के ग्राम समसपुर के जंगल को पूरी तरह से आवारा गौवंशों ने उजाड़ कर रख दिया है। किसानों का कहना है कि यदि वह रात में जागकर अपने खेत की रखवाली करते हैं तो गौवंश दिन में खेतों में घुस आते हैं। किसानों का मानन है कि दिन प्रतिदिन गौवंशों की संख्या बढ़ती जा रही है। उधर प्रशासनिक अधिकारियों को प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ द्वारा निर्देशित किया गया है कि गौवंशों के लिए जल्द से जल्द गौशालाओं का निर्माण कार्य कराकर आवारा गौवंशों को संरक्षित किया जाए। जिससे कि किसानों का हो रहा नुकसान बच सके। लेकिन प्रशासनिक अधिकारियों की गति इस अभियान के प्रति दिन प्रतिदिन धीमी होती नजर आ रही है। वहीं क्षेत्र के किसानों का कहना है कि यदि यही हाल रहा तो इस बार गेहूं की फसल नहीं हो पाएगी। जिससे किसानों को तो भारी नुकसान होगा ही साथ ही सरकार के राजस्व को भी भारी क्षति पहुंचेगी। क्योंकि अधिकांश किसान अपने गेहूं को सरकारी कांटे पर बेचना पसंद करता है और यदि किसानों के गेहूं को गौवंश उजाड़ देगंे तो सरकारी कांटों पर गेहूं की भारी कमी रहेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!