Home > Bulandshahr > गोकशी के विरोध में हुई हिंसा में इंस्पेक्टर व युवक की हुई मौत।

गोकशी के विरोध में हुई हिंसा में इंस्पेक्टर व युवक की हुई मौत।

Prasoon Bajpai 
स्याना। गौकशी का मामला प्रदेश में थमने का नाम नहीं ले रहा है। इसी को लेकर एक बड़ा बवाल सोमवार को स्याना में हो गया। जिसमें हुई हिंसा के बाद एक इंस्पेक्टर व एक युवक की मौत हो गई। इस घटना की गूंज लखनऊ तक पहुंची। जिसके बाद एडीजी मेरठ जोन प्रशांत कुमार व आईजी रामकुमार घटनास्थल पर पहुंचे और मामले की पूर्ण जानकारी प्राप्त की। बताया जा रहा है कि स्याना कोतवाली क्षेत्र के गांव महाव स्थित एक गन्ने के खेत में बड़े पैमाने पर गौकशी के अवशेष मिलने पर हिंदू संगठनों में रोष पैदा हो गया। वहीं हिंदू संगठनों के साथ ग्रामीण भी एकत्र होकर बुलंदशहर हाईवे स्थित चिंगरावठी पुलिस चैकी के निकट पहुंचे और वहां पर आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर जाम लगा लिया। पुलिस ने आक्रोशित लोगों को समझाने व जाम खुलवाने का प्रयास किया तो गुस्साए लोगों ने पथराव करते हुए पुलिस चैकी में तोड़फोड़ कर दी और रखे सामान को आग के हवाले कर दिया। भीड़ का आक्रोश देखकर पुलिस ने हवाई फायरिंग की जिस पर भीड़ और ज्यादा आग बबूला हो गई और उन्होनें पथराव करना शुरू कर दिया। बताया जा रहा है कि इसी पथराव के चलते एक पत्थर इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह के सिर में लगा और वह घायल होकर नीचे गिर पड़े। पुलिसकर्मी उन्हें लेकर तुरंत अस्पताल पहुंचे जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। वहीं लोगों के गुस्से का शिकार मौके पर मौजूद एक अन्य युवक चिंगरावठी निवासी सुमित पुत्र अमरजीत भी हुआ। जो गंभीर रूप से घायल हो गया। जिसे अस्पताल पहुंचाया गया जहां से उसे मेरठ हायर सेंटर के लिए रेफर कर दिया गया। उपचार के दौरान सुमित ने भी दम तोड़ दिया है। इस बवाल में मारे गए कोतवाल सुबोध कुमार सिंह पुत्र राम प्रताप सिंह निवासी ग्राम परगंवा थाना जैथरा जनपद एटा के रहने वाले थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!