Home > Aligarh > जेएन मेडीकल काॅलेज एवं चिकित्सालय में ट्रामा सेंटर के ओबीजी ब्लाॅक में पीडियाट्रिक कार्डिक केथेट्राइजेशन लेबोरेट्री की स्थापना मील के पत्थर समान

जेएन मेडीकल काॅलेज एवं चिकित्सालय में ट्रामा सेंटर के ओबीजी ब्लाॅक में पीडियाट्रिक कार्डिक केथेट्राइजेशन लेबोरेट्री की स्थापना मील के पत्थर समान

अलीगढ़ 10 अक्टूबरः अलीगढ़ मुस्लिम यूनीवर्सिटी के जेएन मेडीकल काॅलेज एवं चिकित्सालय में ट्रामा सेंटर के ओबीजी ब्लाॅक में पीडियाट्रिक कार्डिक केथेट्राइजेशन लेबोरेट्री की स्थापना मील के पत्थर समान है। इस लैब को भारत सरकार के राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अन्तर्गत पीडियाट्रिक कार्डिक ऐबीलेशन एण्ड कार्डिक सर्जरी यूनिट (पीसीई-सीएस यूनिट) द्वारा जेएन मेडीकल काॅलेज में स्थापित किया गया है जिसका श्रेय अमुवि कुलपति प्रो. तारिक मंसूर को जाता है।

प्रो. तारिक मंसूर जब जेएन मेडीकल काॅलेज एवं चिकित्सालय के प्रधानाचार्य व सीएमएस थे तभी उन्होंने इस परियोजना का मसोदा जमा किया था तथा परियोजना को सफल बनाने के लिये वह इसे मंत्रालय के स्तर पर उस समय तक देखते रहे जब तक इसे सरकार से मान्यता न मिल गयी।

पीसीई-सीएस यूनिट के संयोजक डाॅ. तबस्सुम शहाब ने बताया कि अब तक इस लेब में 48 केस निबटाये जा चुके हैं जिनमें पीडीए, एएसडी, वीएसडी डिवाइस क्लोजर तथा बेलून प्लमोनरी वालवोटोमी (बीपीवी) बेलून तथा टिक वालवोटोमी (बीएवी) शामिल हैं। इसके अतिरिक्त 28 डायग्नोसिस केथ स्टडी भी की गयी है।

डाॅ. तबस्सुम शहाब ने बताया कि यहाॅ समस्त उत्तर प्रदेश से रोगी आते हैं तथा राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के अन्तर्गत समस्त केस निशुल्क किये जाते हैं। उन्होंने कहा कि जेएन मेडीकल काॅलेज में पीडियाट्रिक कार्डिक केथलेब की स्थापना पीडियाट्रिक कार्डियालोजी कार्यक्रम प्रारंभ करने के क्षेत्र में एक बड़ा कार्य है।

सहकुलपति प्रो. एमएच बेग ने टीम को बधाई देते हुए कहा कि पीडियाट्रिक कार्डिक केथलेब की स्थापना जेएन मेडीकल काॅलेज में शिशुओं के हृदय रोगों के आधुनिकतम चिकित्सीय व्यवस्था के लिये प्रासंगिक है। उन्होंने कहा कि एसोसिएट प्रोफेसर सीबीटीएस डाॅ. आज़म हसीन, असिस्टेंट प्रो. डाॅ. शाद अबकरी तथा उनकी टीम निर्धन वर्ग के शिशुओं की चिकित्सा के लिये पूरी लगन से कार्य कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!