Home > Aligarh > पुलिस और बदमाशों के बीच हुई मुठभेड मे 25 हजार के दो इनामी ढ़ेर

पुलिस और बदमाशों के बीच हुई मुठभेड मे 25 हजार के दो इनामी ढ़ेर

साधु व दंपत्ति सहित कई हत्याकांड में थे वांछित
एक घंटा चली मुठभेड मे एसओ पालीमुकीमपुर हुए घायल

अलीगढ़। जपनपद के थाना हरदुआगंज में गुरुवार को पुलिस से बदमाशों से हुई मुठभेड मेेें दो बदमाश पुलिस की गोली लगने से घायल हो गये। जिन्हें तत्काल जिला अस्पताल लाया गया। वहाॅ पर डाॅक्टर ने दोनों को मृत घोषित कर दिया। एसएसपी अजय कुमार सहानी ने बताया बदमाशों की गोली लगने से एक थानाध्यक्ष भी घायल हो गया।
वारिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय कुमार सहानी ने बताया गुरूवार की सुबह 6 बजे के करीब मुठभेड़ में नौशाद पुत्र राशिद व मुस्तकीम पुत्र इरफान निवासीगण शिवपुरी छर्रा हाल निवासी कस्बा अतरौली को मार गिराया। जबकि उनका साथी अफसर पुत्र अल्लादीन निवासी मुहल्ला छँटवा उंझानी जिला बंदायू फरार हो गया। सभी आरोपित बीते दिनों सफेदपुरा से आश्रम पर साधू, पास ही खेत मे दंपत्ति की हत्या सहित अतरौली, पाली में साधू व किसानों की हत्या में वंचित चल रहे थे। जिनकी पुलिस सरगर्मी से तलाश कर रही थी। मुठभेड़ के दौरान इंस्पेक्टर पाली मुकीमपुर प्रदीप कुमार गोली लगने से घायल हो गए। जिन्हें वरुण ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया है। इन्हीं बदमाशों ने गतरात तालानगरी के नजदीक से एक बाईक लूट की वारदात को अंजाम दिया था। पुलिस रात से ही बदमाशों की तलाश में चारों ओर घेराबंदी किए हुए थे।
हरदुआगंज थाना प्रभारी के मुताबिक बाईक लूटकर बदमाश अतरौली की ओर भागे थे पुलिस साधु आश्रम चैराहे पर चेकिंग में लगी थी। तभी तीन बदमाश आते दिखाई दिये पुलिस की घेराबंदी पर वह पुलिस पर फायरिंग करते हुए साधु आश्रम से पनेठी की ओर भागने लगे और माछुआ नहर पुल के पास नहर किनारे सिंचाई विभाग के खण्डर भवन में जा छुपे सूचना पर एसएसपी सहित हरदुआगंज, अकराबाद, छर्रा, अतरौली, पाली, बरला, जवां, क्वार्सी, सहित कई थानों की पुलिस पहुंच गई। पुलिस व बदमाशों के बीच डेढ़ घंटे के करीब रुक रुक कर फायरिंग होती रही और खण्डर में छुपे बदमाशों को मार गिराया गया। बदमाश लूटी हुई बाईक पर ही सवार थे। बदमाशों की मौत के बाद उनके शव का जिला मलखान सिंह में रख दिया। जहाॅ पुलिस मृत बदमाशों के परिजनों का इंताजर करती रही। लेकिन दोनों ही बदमाशों के परिवार का कोई सदस्य नहीं पहंुचा।
मोटर साइकिल पर सवार व्यक्तियों के बदमाश होने का अंदेशा होने पर पुलिस कंट्रोल रूम को सूचित कर प्रभारी निरीक्षक हरदुआगंज द्वारा बदमाशों का पीछा किया गया। बदमाश अपने को घिरता देख मछुआ माईनर के खण्डरों में जा छिपे। प्रभारी निरीक्षक हरदुआगंज द्वारा खण्डरों का घेराव कर बदमाशों को आत्मसर्मपण के लिये ललकारा तो बदमाशों ने जान से मारने की नियत से गिरफ्तारी से बचने हेतु पुलिस पार्टी पर फायर किया। उन्होने बताया कि प्रभारी निरीक्षक हरदुआगंज द्वारा अपनी सूझ-बूझ का परिचय देते हुए खण्डर का आउटर कार्डन डालकर सहायतार्थ अन्य फोर्स की माँग की गई। प्रभारी निरीक्षक अतरौली व थानाध्यक्ष पालीमुकीमपुर मय हमराही अधिकारी के मौके पर पहुँचे व स्थिति से अवगत होते हुए समस्त फोर्स को 3 पार्टियों में विभाजित कर आवश्यक दिशा-निर्देश देते हुए खण्डरो का घेराव कर आड लेकर अपने आप को बचाते हुए आत्म-समर्पण के लिए कहा गया।तो इस बार बदमाशों ने पुलिस पार्टियों पर अंधाधुंध फायरिंग प्रारम्भ कर दी, जिससे पुलिस कर्मी टैक्टीकल हरकतों का प्रयोग कर बाल-बाल बचे परन्तु प्रदीप कुमार थानाध्यक्ष पालीमुकीमपुर बदमाशों की गोली लगने से गम्भीर रूप से घायल हो गये। इस पर पुलिस पार्टी द्वारा अदम्य साहस व शौर्य का परिचय देते हुए आत्मरक्षार्थ की गयी फायरिंग से 2 अभियुक्त भी गम्भीर रूप से घायल हो गये। थानाध्यक्ष पालीमुकीमपुर व घायल अभियुक्तों को तत्काल उपचार हेतु ले जाया गया। घायल अभियुक्तों से अस्पताल ले जाते समय रास्ते में उन से जब नाम व पता पूछा गया, तो एक ने अपना नाम नौशाद पुत्र साबिर निवासी गली नं0 8 शिवपुरी कस्बा व थाना छर्रा जनपद अलीगढ़ हाल निवासी मोहल्ला भैंसपाडा कस्बा व थाना अतरौली जनपद अलीगढ़ व दूसरे ने अपना नाम मुस्तकीम पुत्र इरफान निवासी उपरोक्त बताया। तब जाकर ये ज्ञात हुआ की इन घायल अभियुक्तो ने अपने अन्य साथियों के साथ मिलकर जनपद अलीगढ़ के अलग-अलग थानाक्षेत्रों में 6 साधुओं व किसानो हत्या की थी और पुलिस अधीक्षक ने बताया कि अभियुक्तों की गिरफ्तारी पर 25-25 हजार रूपये का पुरूष्कार घोषित किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!