Home > Aligarh > प्रोफेसर लतीफ हुसैन शाह काजमी ने चीन के पेकिंग विश्वविद्यालय में आयोजित 24वीं विश्व कांग्रेस ऑफ फिलॉसफी-2018 में ‘‘मानव अधिकारों में इस्लामी परिप्रेक्ष्यः एक अवलोकन‘‘ विषय पर एक पेपर किया प्रस्तुत

प्रोफेसर लतीफ हुसैन शाह काजमी ने चीन के पेकिंग विश्वविद्यालय में आयोजित 24वीं विश्व कांग्रेस ऑफ फिलॉसफी-2018 में ‘‘मानव अधिकारों में इस्लामी परिप्रेक्ष्यः एक अवलोकन‘‘ विषय पर एक पेपर किया प्रस्तुत

अलीगढ़ 28 अगस्तः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के दर्शनशास्त्र विभाग के प्रोफेसर लतीफ हुसैन शाह काजमी ने चीन के पेकिंग विश्वविद्यालय में आयोजित 24वीं विश्व कांग्रेस ऑफ फिलॉसफी-2018 में ‘‘मानव अधिकारों में इस्लामी परिप्रेक्ष्यः एक अवलोकन‘‘ विषय पर एक पेपर प्रस्तुत किया।
अपने पेपर में प्रोफेसर काजमी ने जोर देकर कहा कि इस्लाम में मानवाधिकारों की अवधारणा ईश्वर के लिये एकता, इस्लाम के पैगंबर की सीरत और भगवान के लिए उनके प्यार और मानवता की सेवा के विचार में आधारित है।
उन्होंने कहा कि उनके वफादार साथी इमाम, सूफी और अन्य दार्शनिकों के पैगंबर व्यवहार और प्रथाओं सहित इस्लामी शिक्षाओं के क्षेत्र ने मुसलमानों से शांति, सार्वभौमिक सद्भावना और प्यार के साथ मानव जाति की सेवा बनाए रखने एवं मानवाधिकारों के लिए इस्लामी नैतिक सिद्धांतों को अपनाने का आग्रह किया।
प्रोफेसर काजमी ने कहा कि इस्लामी परिप्रेक्ष्य से मानवाधिकारों पर एक वैश्विक वार्ता पूरी मानव जाति के लिए विश्व शांति और समृद्धि लाने में मदद कर सकती है। उन्होंने अपने व्याख्यान में ‘पशु‘ अधिकारों के इस्लामी परिप्रेक्ष्य पर भी प्रकाश डाला।

One thought on “प्रोफेसर लतीफ हुसैन शाह काजमी ने चीन के पेकिंग विश्वविद्यालय में आयोजित 24वीं विश्व कांग्रेस ऑफ फिलॉसफी-2018 में ‘‘मानव अधिकारों में इस्लामी परिप्रेक्ष्यः एक अवलोकन‘‘ विषय पर एक पेपर किया प्रस्तुत

  1. We must encourage mutual love and cooperation for the people of all faiths and cultures…. true Islamic philosophy focuses on the common spiritual values…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!