Home > Hathras > कमिश्नर से मिला यूनीवर्सल काउंसिल का प्रतिनिधि मंडल

कमिश्नर से मिला यूनीवर्सल काउंसिल का प्रतिनिधि मंडल

स्कूल संचालक उड़ा रहे अध्यादेश की धज्जियां

Neeraj Chakrpani 
हाथरस-10 अगस्त। उत्तर प्रदेश के अध्यादेश के खिलाफ प्राइवेट स्कूल संचालकों द्वारा की जा रही मनमानी के विरोध में आज एक प्रतिनिधि मंडल मंडलायुक्त अलीगढ़ से मिला और प्राइवेट स्कूलों की मनमानी को लेकर शिकायत दर्ज करायी।
यूनिवर्सल ह्यूमन राइट काउंसिल के राष्ट्रीय महासचिव प्रवीन वार्ष्णेय, राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य देवेन्द्र गोयल एवं कुलदीप सिकरोरिया मंडलायुक्त अलीगढ़ से मिले और बताया कि उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा प्राइवेट स्कूलों की मनमानी रोकने और अभिभावकों को राहत प्रदान करने के उद्देश्य से अध्यादेश के माध्यम से फीस निर्धारण कर जनहित में निर्णय लिया गया। लेकिन हाथरस जनपद के प्राइवेट स्कूल संचालक अध्यादेश की खुलेआम धज्जियां उड़ा रहे हैं और अध्यादेश के अनुसार मंडलीय समिति के बिना अनुमोदन के ही बढ़ी हुई फीस वसूली जा रही है। जिसके विरोध में अभिभावकों द्वारा धरना प्रदर्शन आदि के माध्यम से जिला प्रशासन का ध्यान आकर्षित कराया गया।
उन्होंने बताया कि जिला विद्यालय निरीक्षक द्वारा एक कमेटी का गठन किया गया। उक्त कमेटी ने पाया कि सेंट फ्रांसिस स्कूल द्वारा अध्यादेश के दिशा निर्देशों के विपरीत मानक से अधिक फीस वसूली जा रही है और बढ़ी हुई फीस का मंडलीय समिति से अनुमोदन भी प्राप्त नहीं हुआ है। स्कूल प्रशासन द्वारा उन्हें संशोधित कर फीस का प्रारूप पुनः जिला विद्यालय निरीक्षक को सौंपा गया, लेकिन कम की हुई फीस का लाभ अभिभावकों को नहीं मिल रहा है और लगातार स्कूल प्रशासन द्वारा दबाव बनाया जा रहा है कि बढ़ी हुई फीस को ही जमा किया जाए एवं बढ़ी हुई फीस को पूर्ण वापस करने की मांग भी रखी व सेंट फ्रांसिस स्कूल में वाहनों की व्यवस्था भी नहीं है जिसके कारण मजबूरी में अभिभावकों को अटें्रड ड्राइवरों व कंडम वाहनों से बच्चों को भेजने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। अध्यादेश के अनुसार मंडलीय समिति में अभिभावकों के प्रतिनिधि मंडल को भी जगह मिलनी चाहिए एवं किसी भी स्कूल में अभिभावक संघ का गठन नहीं हुआ है। अगर किसी स्कूल में गठन कर भी रखा है तो वह केवल कागजों और दिखावे के लिए है कोई भी स्कूल पेरेंट्स मीटिंग किसी हॉल के अंदर अभिभावकों, बच्चों और टीचरों के साथ नहीं करता है जिससे जो भी समस्याएं सामूहिक रूप से उनका निदान हो सके।
उक्त बातों को सुनकर मंडलायुक्त ने स्कूल प्रशासन को तलब कर उक्त बिना मंडलीय समिति के अनुमोदन के फीस वसूलने पर नाराजगी जताई और कार्यवाही का भरोसा दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!